“मुझे लगता है दक मैं असिल हूँ।”

आज हम उस दवचार से हटने का उपवास कर रहे हैं जो कहता है, “्ुझरे लगता है डक ्ैं असफल हूँ” या “्ैं पर्रेश्वर करे साथ अपनरे समबनध ्ें, अपनरे जीवन ्ें, अपनरे डवश्वास इत्याडद ्ें असफल हो ग्या हूँ।”

असिलता की भावना दनराराजनक और िु:खी करने वाली हो सकती है। यह हमें हार के चक् में रख सकती है।

आइए आज हम इसे बिलें

1. आप ्ें वापस आनरे का िीएनए है। यहाँ तक दक जब आप को ऐसा प्रतीत होता है दक आप एक बहुत बुरी पररदसरदत  में है, उस समय भी वही आतमा आप में वास करता है दजसने यीरु को मृतकों में से जीदवत दकया रा। अपनी वापसी की अपेषिा करें! आप में पुनरुतरान का िीएनए है!

2. डगरना असफल होना नहीं है। नीदतवचन 24:16 कहता है, “क्योंदक िमषी चाहे सात बार दगरे तौभी उि खड़ा होता है! आप मसीह में िमषी हैं। सवयं को ऐसे वयदति के रूप में िेखें जो ऊपर उिता है। जब आप दगरते हैं, तो आपके पास वापस उिने का भी अदिकार है।

3. यीशु को उसकी प्रार्थ प्रार्थनाओं का उत्तर मि लता है। और वह आपके लि ए प्रा र्थना कर रहा है, कि आपका विश्वा स विफ ल न हो। लूका 22:32 हमें बताता है कि यीशु ने पतरस (और आप से) से कहा, “परन्तु ्तु मैंने तेरे लि ए वि नती की कि तेरा विश्वा स जाता न रहे।” आप असफल नहीं होंगे। कोई शर्म शर्म की बात नहीं है! उठिए।

4. यीशु आप की ओर ्ुड़ रहा है, आप से ्ुँह नहीं ्ोड़ रहा! लूका 22:61 में, जब पतरस ने प्रभु का इनकार दकया तो प्रभु ने मुड़कर पतरस की ओर िेखा। उसने उस से मुहँ नहीं मोड़ा। आपको सवीकार दकया जाता है! सबसे नीचे दगरने के बाि भी इस सवीकृ दत ने पतरस के जीवन को रूपादनतरत कर दिया। जैसे परमेश्वर ने पतरस को सवीकार दकया, वैसे ही वह आपको भी सवीकार करता है, तब भी जब आप असिल हो जाते हैं।

5. जब आप अप्या्तप्त रूप सरे का्य्त कर रहरे हैं, तब भी पर्रेश्वर आपको असफि नहीं होनरे दरेगा। वह यह सुदनदश्चत करने जा रहा है दक आप इसे पूरा करें।उसके सार आपका समबनि उसी का दवचार रा, आपका नहीं। वह वही करेगा जो उसने आरमभ दकया रा।

6. पर्रेश्वर एक पल ्ें, वर्षों की असफलता को बदल सकता है। एसतेर 9:1 में, परमेश्वर के लोग नटि होने वाले रे, परनतु परमेश्वर ने अचानक उनहें बचा दलया।के वल एक डदन में, पररदसरदत दबलकु ल बिल गई, और परमेश्वर ने दनदश्चत पराजय को समपूण्त जीत में बिल दिया! यदि परमेश्वर उनके दलए यह पूरा कर सकता है, तो वह आपके दलए भी करेगा!

इसे सोचें और इसे कहें

मुझ में वापस आने का िीएनए है! दगरने पर दिर से उिकर खड़े होना, यह मेरा नया सवभाव है। जब मैं असिल हो जाऊँ गा तब मेरे पास वह लहू ख़रीिा अदिकार है दक मैं वापस उिूँ और खड़ा हो जाऊँ !

जब मैं दगरता हूँ, तो यीरु मुझे नहीं छोड़ता; वह मेरे पास आता है और मेरे दलए प्रार्तना करता है। मैं असिल नहीं हो सकता। वह मुझे असिल नहीं होने िेगा। मेरे प्रदत उसका प्रेम कभी असिल नहीं होगा। मैं आज अपेषिा कर रहा हूँ दक परमेश्वर मेरी असिलताओं और दनराराओं को बिल िेगा, यीरु के नाम से!



Categories: christianity, hindi

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: