मैं िँ सा हुआ महसूस कर रहा हूँ।

आज हम उस दवचार से हटने का उपवास कर रहे हैं जो कहता है, “्ैं फँ सा हुआ ्हसूस कर रहा हूँ।”

हम सभी ने कभी न कभी ऐसा सोचा है, परनतु यह एक झूि है। आप दजसमें हैं वहाँ स दनकलने का कोई न कोई माग्त सिा होगा या आपको यदि बाहर रखा गया है तो भीतर जाने का एक माग्त सिैव कहीं न कहीं होगा। 

रैतान यही चाहेगा दक आप यह सोचे दक आप िँ स गए हैं, और उस दसरदत से बाहर दनकलने का कोई माग्त नहीं है दजसे आप अनुभव कर रहे हैं। वह चाहता है दक आप हतोतसादहत, गदतहीन और सामरय्तहीन महसूस करें।

आइए आज हम इसे बिलें

1. आज पडवत्र आत्ा की सरेवकाई पर डवश्वास करें। रोदमयों 8:26 कहता हैं, “क्योंदक हम नहीं जानते, दक प्रार्तना दकस रीदत से करना चादहए; परनतु आतमा आप ही ऐसी आहें भर भरकर     हमारे दलये दबनती करता है।” आपकी दसरदत चाहे जो भी हो, जब आप उससे माँगते हैं और उसका िनयवाि करते हैं, तब पदवत् आतमा जानता है दक आपके जीवन के दलए परमेश्वर की इचछा को आपके जीवन में कै से लाया जाए।

2. आज ्यह डविार करें: प्राथ्तना सब कु छ बदल दरेती है। ऐसा कु छ भी नहीं है जो आप प्रार्तना के द्ारा प्रभादवत नहीं कर सकते। प्रार्तना आपको दकसी भी चीज से बाहर दनकालती है। यह आपको दिर से आगे बढाती है। प्रार्तना सामरय्तराली है। “और जो कु छ तुम प्रार्तना में दवश्वास से मांगोगे वह सब तुम को द्मलेगा।” (मत्ती 21:22)

3. इस बात पर भरोसा करें डक डवश्वास रासता डनकालता है। जब भी ्ैं फँ सा ्हसूस करता हूँ, तब ्ुझरे ्यरे शबद स्रण आतरे हैं: डवश्वास रासता डनकालता है। मरकु स 2: 1-5 में, जब एक लकवे से पीदड़त वयदति के दमत्ों को उस घर में जाने का माग्त नहीं दमला जहाँ यीरु रा। वे िँ स गए रे, परनतु उनहोंने द्वश्ास द्कया द्क कोई और माग्क हो सकता था। वे छत पर गए और उसे खोल दिया और उनहोंने उसे नीचे उतारा, और वह वयदति चंगा हो गया। क्यों? क्योंदक दवश्वास ने एक माग्त दनकाला! यदि हम ऐसा नहीं सोचेंगे तो, हम उसकी खोज नहीं करेंगे।

4. स्रण रखें, ्यीशु आग की भट्ी ्ें उपडसथत, िौथा व्यडक्त था। जब िादनययेल 3 में ऐसा लगा दक तीन लोग भट्ी में जलाए जा रहे हैं, तब यीरु वहाँ आया! जो असमभव दसरदत री, उसे समभव बनाया गया, क्योंदक यीरु उनके सार रा। और वह अब आपके सार है!

5. यीशु आपका ्ाग्त है। “माग्त और सचचाई और जीवन मैं ही हूँ”। जब कोई और माग्त नहीं दिखाई िेता, तब यीरु ही एकमात्र माग्क होता है। आप दजस भी दसरदत में हैं, उससे बाहर दनकलने का वह एक मात् माग्त है। उससे माग्त बनाने की अपेषिा रखें।

6. करे वल अगलरे कद् करे बाररे ्ें सोिें। जब यीरु पर यह परीषिा आई दक वह क्ू स पर न जाए, तो बाइबल कहती है, “और वह रोड़ा आगे बढा   ” (मरकु स14:35 बीएसआई)। जब आपको प्रतीत होता है दक आप कु छ नहीं कर सकते या िँ से हुए हैं, तो बस एक ही किम उिाएँ। बाकी किमों के बारे में न सोचें। बस अगला किम लें। दकसी समबनि में, पहला किम के वल यह कहना हो सकता है, मुझे षिमा करो।यदि यह िन के बारे में है, तो किादचत् वह खच्त करने के एक षिेत् को कम करना या अदतररति िान िेना हो सकता है। रोड़ा आगे बढे!

इसे सोचें और इसे कहें

जब मैं िँ सा हुआ महसूस करता हूँ, तब पदवत् आतमा मेरे दलए दवनती करता है। वह मुझमें और मेरे द्ारा आगे बढ रहा है। ्ैं ्यह सोिता और ्ानता हूँ डक सदैव कोई न कोई ्ाग्त होता है। यहाँ तक दक जब ऐसा प्रतीत होता है दक कोई माग्त नहीं है, तब यीरु ही माग्त होता है।

वह मेरे सार है चाहे मुझे दकसी भी आग का सामना क्यों न करना पड़े। जब मैं िँ सा हुआ महसूस करता हूँ, तब मैं यीरु के नाम से उस एक किम के बारे में सोचँूगा जो मुझे अपने जीवन में चंगाई, आरीष और परमेश्वर की इचछा की ओर ले जाएगा!



Categories: christianity, hindi

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: