“मैं अपने को कभी षिमा नहीं कर सकता।”

आज हम उस दवचार से हटने का उपवास कर रहे हैं जो कहता है: “्ैं अपनरे को कभी षि्ा नहीं कर सकता।”

क्या ऐसा कोई वयदति है दजसने अपने जीवन में कभी ऐसा दवचार नहीं दकया है? रैतान हमें उन बातों के दलए आतम-िोष में रखना चाहेगा जो हमने की हैं या करने में असिल रहे हैं। वह जानता है दक यह हमें पंगु बना िेगा और हमें उस प्रभाव को बनाने से रोके गा दजसकी परमेश्वर ने हमारे दलए मंरा की रा।

आइए आज हम इसे बिलें

1. यह पहिानें डक ह् करे वल ्यीशु करे लहू करे कारण ही षि्ा पातरे हैं। इसदलए नहीं दक हमसे “कभी गलदतयाँ नहीं हुई,” या “वह इतनी बुरी भी नहीं रीं।” युदतियों और बहानों को तयाग िें और बस परमेश्वर की िया और कृ पा को प्राप्त करें।

2. यह बहुत बुरा था, परनतु पर्रेश्वर और भी अचछा है! याकू ब 2:13 कहता है, “िया नयाय पर जयवनत होती है।” आपके दलए उसकी िया, आपके अपने आतम-िंि पर ज्यवनत होती है। लूका 22:34 में, पतरस ने तीन बार प्रभु का इनकार दकया और यीरु ने उसे षिमा कर दिया। बाि में, पतरस ने यीरु के पुनरुतरान के बाि पहला उपिेर दिया, और एक दिन में 3000 लोग बचाए गए! जब पतरस ने यह जाना दक यीरु ने उसको सवीकार दकया है, तब वह सवयं को षिमा करने में सषिम रा। िीक उसी तरह, आप भी परमेश्वर के द्ारा, के वल क्ू स के ऊपर उसके द्ारा दकए गए काय्त पर दवश्वास करने के द्ारा सवीकार दकए गए हैं, चाहे आपने कु छ भी क्यों न दकया हो।

3. अपनरे डवरूद्ध कु छ भी रखनरे करे अपनरे अडधकार को छोड़ दें। परमेश्वर अपने मन में आपके दवरूद्ध कु छ भी नहीं रखता। सवयं को षिमा करना के वल परमेश्वर के सार सह्त होना है। उसकी मानक पूण्त दसद्धता है, और वह आपको षिमा करता है। भजन 103:12 कहता है, “उियाचल असताचल से दजतनी िूर है, उसने हमारे अपरािों को हम से उतनी ही िूर कर दिया है।”

4. आपनरे जो डक्या, दोहराना करना बनद कर दें। वह बीत चुका है। खतम हो चुका है। अब उस िूसरे अवसर (या तीसरा या चौरा   ) को सवीकार करें दजसे परमेश्वर प्रिान करता है। दिदलदपपयों 3:13 कहता है “दक जो बातें पीछे रह गई हैं उन को भूल कर, आगे की बातों की ओर बढें   ” आगे बढना आपके वैचाररक जीवन में आरमभ होता है।

5. यह डवश्वास करें डक अपराध की भावना पर्रेश्वर सरे नहीं आती है। वह आपको कु छ करने से रोकने का प्रयास करने के दलए आप पर िोष नहीं लगाता।रोदमयों 2:4 कहता है, “परमेश्वर की कृ पा तुझे मन दिराव को दसखाती है।” क्योंदक अपराि की भावना और लजजा परमेश्वर से नहीं आती है, इसदलए के वल एक ही अनय स्ोत – रैतान हो सकता है। याकू ब 4:7 कहता है, “इसदलये परमेश्वर के आिीन हो जाओ; और रैतान का सामना करो, तो वह तुमहारे पास से भाग दनकलेगा।”

6. सव्यं-को-दणि दरेना छोड़ दें। कु छ लोग अवचेतन रूप से सोचते हैं: “जो मैंने दकया है, उसका पररणाम भुगतने के दलए मैं सवयं को बुरा महसूस करवाऊँ गा।” हम ने जो गलती की है, उसका भुगतान हम क्यों करे, जब दक उसका भुगतान पहलरे से ही दकया जा चुका है? सवयं को चोट पहुँचाना बनि करें। “हमने जो दकया है, उसका भुगतान” करने का प्रयास करके हम यीरु के लहू पर सनिेह कर रहे हैं, और उसका अपमान कर रहे हैं दजसने पूरा मूलय चुकाकर भुगतान दकया है। उसका मुफत उपहार को सवीकार करें।

इसे सोचें और इसे कहें

यीरु मसीह के लहू के कारण, मैं आज िया को सवीकार करता हूँ। यद्यदप मैं इसके योगय नहीं रा, तौभी परमेश्वर यह घोषणा करता है दक मैं “िोषी नहीं” हूँ। जहाँ मैं असिल रहा हूँ, वहाँ परमेश्वर की िया िंि पर जय प्राप्त करती है।

मैं अपने दवरूद्ध कु छ भी रखने का अपना अदिकार आज छोड़ िेता हूँ। मैं िदणित होने के योगय हूँ, परनतु यीरु ने मेरे दलए उस िणि अपने ऊपर ले दलया है। चाहे मैं यह महसूस क ँरू दक मैंने, सुिार से अदिक तो नुकसान दकया है, तौभी जो हुआ है उसे पीछे छोड़कर मैं अपने जीवन में आगे बढूँगा।

मैं अपराि की इस भावना और आतम-िोष को असवीकार करता हूँ जो रैतान मुझ पर िालने की प्रयास कर रहा है। परमेश्वर िूसरा अवसर िेनेवाला परमेश्वर है। मैंने जो कु छ भी दकया है, उसका भुगतान करने के दलए मैं सवयं को बुरा महसूस नहीं करवाऊँ गा। मैंने जो दकया या जो करने में मैं असिल रहा उसका मूलय यीरु के लहू द्ारा पूरा चुका दिया गया है! 



Categories: christianity, hindi

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: