“मेरे पास पया्तप्त नहीं है।”

अदिकांर लोग भोजन का उपवास करने के लाभों को जानते हैं, परनतु गलत सोच से हटने वाला उपवास अब तक एक अप्रयुति खजाना और बल रहा है! जब आप इस अद्ुत यात्ा पर चलते रहेंगे और इस सामरय्त का उपयोग करेंगे, तब आप रूपांतररत हो जाएँगे!

आज हम उस दवचार से हटने का उपवास कर रहे हैं जो कहता है, “्रेररे पास प्या्तप्त नहीं है।”

यह एक ऐसी मानदसकता है जो कहती है, “मेरे पास पया्तप्त मात्ा में िन नहीं है। मेरे पास पया्तप्त समय नहीं है। मेरे पास पया्तप्त दमत् नहीं हैं। मेरे पास पया्तप्त दरषिा नहीं है, इतयादि,”

ये दवचार एक अदृशय घेरे का दनमा्तण करते हैं जो आपको कमी और अभाव के पीछे रखता है।

आइए आज हम इसे बिलें

1. पर्रेश्वर करे भरपूरी करे प्रबंध पर डवश्वास करें। हमारा परमेश्वर सवयं को एलरद्ै कहता हैं, दजसका अर्त है पया्तप्त से अदिक का परमेश्वर। हमारे भीतर रहने वाला परमेश्वर पया्तप्त से अदिक है। आइए पया्कप्त नहीं होने के सनिभ्त में सोचना बनि करें और पया्कप्त से अद्िक के सनिभ्त में सोचना आरमभ करें।

2. गुणा करनरे करे बाररे ्ें सोिरे। परमेश्वर ने कहा: िू लो-िलो और पृरवी में भर जाओ। वह एक गुणा करनेवाला परमेश्वर है, और आप भी हैं। गुणा करने वाले परमेश्वर पर दवश्वास करें!

3. सरेब करे बाग करे बाररे ्ें सोिरे। सेब का बीज सेब का एक बाग बन जाता है। एक छोटा बीज पूरे समुिाय के दलए पया्तप्त से अदिक हो जाता है! एक बीज की सामरय्त में दवश्वास करें।

4. बीज आवश्यकता को पूरा करता है। समरण रखें, यहाँ तक दक परमेश्वर भी एक ऐसे बीज को गुणा नहीं कर सकता है दजसे आप सवयं नहीं बोते। एक बीज बोएं।

5. धीरज रखें। दकसान इस बात को समझते हैं दक बीज, समय और कटनी क्या होते हैं। यह न भूलें दक समय बीज और कटनी के बीच का समपक्त है।

6. पर्रेश्वर आपसे कु छ पानरे की प्र्यास नहीं कर रहा है; वह आपको कु छ दरेनरे का प्र्यास कर रहा है। दवश्वास रखें। जाने िें। जब आप अपने हार में जो कु छ भी है उसे जाने िेते हैं, तब आप वह प्राप्त करने में सषिम होते हैं जो परमेश्वर आपके हार में िेने की प्रयास कर रहा है! आप िें, और आपको उससे अदिक वापस दिया जाएगा।

इसे सोचें और इसे कहें

मेरे पास सिैव पया्तप्त होता है, क्योंदक दिदलदपपयों 4:19 कहता हैं, परमेश्वर अपने उस िन के अनुसार जो मदहमा सदहत मसीह यीरु में है, मेरी हर घटी को पूरा करेगा। मेरे पास सिैव पया्तप्त होता है, क्योंदक मेरा परमेश्वर पया्तप्त से अदिक है। मेरा मानना है दक बीज आवशयकताओं को पूरा करते हैं। मैं एक बोने वाला हूँ, और इसदलए मैं एक काटनेवाला हूँ। परमेश्वर गुणा करनेवाला परमेश्वर है, और इसदलए मैं भी वहीं हूँ।

मुझे िलिायी होने और बढने के दलए बुलाया गया है। परमेश्वर प्रतयेक उस अचछे बीज को गुणा कर रहा हैं जो मैंने कभी बोया है। जब मैं िेता हूँ, तब यीरु के नाम से वह पूरा नाप िबा िबाकर और दहला दहलाकर और उभरता हुआ मुझे वापस िेता है!



Categories: christianity, hindi

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: