“मैं रुक नहीं सकता।”

आज हम उस दवचार से हटने का उपवास कर रहे हैं जो कहता है, “्ैं रुक नहीं सकता।”

कोई आित, पाप, या नरे की लत को छोड़ना जीवन का सबसे कदिन काम हो सकता है; परनतु यह तब आसान हो जाता है जब हम यह जान लेते हैं दक यीरु न के वल हमारे पापों को षिमा करने के दलए मारा गया; अदपतु वह हमें पाप पर जय प्राप्त करने की सामरय्त िेने और सब बनिनों से मुदति दिलाने के दलए भी मारा गया।

आइए आज हम इसे बिलें

1. रुकनरे की प्र्यास करना बनद करें। इसके बजाय गलत सोच से हटने वाले उपवास को करते रहें। नीदतवचन 23:7 कहता है, “क्योंदक जैसा वह अपने मन में दवचार करता है, वैसा वह आप है।” आपके दवचार आपके दनण्तयों को आकार िेंगे; आपके दनण्तय आपके कायषों को आकार िेंगे; आपके काय्त आपकी आितों को आकार िेंगे।

2. पर्रेश्वर करे अनुग्ह करे डलए जागृत हो जाएँ। रोदमयों 6:14 हमें बताता है दक पाप हमारे ऊपर राजय नहीं करता “   क्योंदक तुम वयवसरा के अिीन नहीं वरन् अनुग्ह के अिीन हो।” इस अनुग्ह को सवीकार करें। यह परमेश्वर का सवतंत्, अनदज्तत और अवांछनीय प्रेम है!

3. अनुग्ह सा्थथी बनाता है। तीतुस 2:11 कहता है, “यह परमेशवर का अनुग्ह है जो हमें सषिम करता और दसखाता है दक हम अभदक्त का इनकार करें।” अभी इसी वति परमेश्वर के अनुग्ह के दसंहासन की ओर जाएँ और उसकी सहायता की माँग करें।

4. उसका जूआ सहज है। आप यीरु के सार जुड़े हुए हैं। इसका अर्त है दक वह आपके संघष्त का भार उिाएगा और उस में से आपको ले चलेगा।

5. पररवत्तन आप ्में होता है, आपकरे द्ािा नहीं। रोदमयों 12:2 कहता है, “तुमहारा चाल-चलन बिलता जाए।” यह ऐसा कु छ है जो आप के साथ तब होता है, जब आप अपने मन को परमेश्वर के वचन में नया करते हैं। यह आपके सार अभी हो रहा है, जब आप गलत सोच से हटने वाले उपवास को कर रहे हैं! और जब आप अपने मन को परमेश्वर की भलाई के सार भरते हैं, यह आपको “पश्चाताप” की ओर ले जाता है (जो यह है: अपनी सोच को बिलना, रोदमयों 2:4)।

6. “कु छ ऐसा नहीं है जो हो नहीं सकता।” (दिलम ररॉकी II में, दमक्की ने ररॉकी स यह कहा रा।) अपनी रबिावली और अपनी मानदसकता से “नहीं” रबि को हटा िें। आप मसीह के द्ारा सभी बातों को कर सकते हैं।

7. आपनरे जो डक्या है, उसकरे बाररे ्ें सोि कर सव्यं को िोट पहुँिाना बनद करें। हम अक्सर आतम-दननिा के सार सवयं को िदणित करते हैं। हम परमेश्वर के दलए कभी भी पया्तप्त मात्ा में नहीं करेंगे। इसदलए यीरु ने सब कु छ दकया।उसने हमारे पाप, अदभराप और दविलता का भुगतान दकया। हमारा काम को बस दवश्वास करना है।

इसे सोचें और इसे कहें

मैं अब अपने जीवन में दकसी भी पाप, आित या समसया के बनिन या दनयनत्ण में नहीं हूँ। मैं परमेश्वर की कृ पा के अिीन हूँ, और यह मुझे पाप और प्रलोभन पर प्रभुतव प्रिान करता है।

मैं यीरु से जुड़ा हुआ हूँ। इसदलए, मैं उसकी सामरय्त में चलता हूँ। जब मैं अपने मन को परमेश्वर के वचन में नया कर रहा हूँ, तो मैं यीरु के नाम से बिल रहा हूँ और पररवदत्तत हो रहा हूँ!



Categories: christianity, hindi

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: