“मैंने जयािा कु छ नहीं दकया है।”

आज हम उस दवचार से हटने का उपवास कर रहे हैं जो कहता है, “्ैंनरे ज्यादा कु छ नहीं डक्या है।”

जब बातें हमारी सोच के अनुसार आगे नहीं बढती हैं, तब हमें कभी-कभी ऐसा प्रतीत होता है दक हम पदवत् नहीं हैं या हम ने परमेश्वर की आरीष या अनुग्ह की प्रादप्त के योगय पया्तप्त मात्ा में प्रार्तना नहीं की है।

आइए आज हम इसे बिलें

1. ह्ें वह ड्लता है डजसकरे ्योग्य ्यीशु है। रोदमयों 8:17 हमें बताता है दक हम यीरु मसीह के सार संगी-वाररस हैं। उसकी िरोहर हमारी है। 1 यूहनना 4:17 कहता है, “क्योंदक जैसा वह है वैसे ही इस संसार में हम भी हैं।” हम श्ाप की प्रादप्त को योगय रे, परनतु इसके बजाय हम उसकी आरीष को प्राप्त करते हैं।

2. वािा प्रवृत्त ्नुष्य बनें। आपकी परमेश्वर के सार एक वाचा है। एक वाचा एक अनुबंि है – इस दसरदत में, यह एक ऐसा अनुबंि है जो यीरु मसीह के बहाए गए लहू के द्ारा सुदनदश्चत दकया गया है।

3. अनुग्ह प्रवृत्त ्नुष्य बनें। अनुग्ह तब होता है जब परमेश्वर हमें वह िेता है दजस के हम योगय नहीं होते। इब्ादनयों 4:15 कहता हैं, “इसदलये आओ, हम अनुग्ह के दसंहासन के दनकट दहयाव बाँिकर चलें दक हम पर िया हो, और वह अनुग्ह पाएँ जो आवशकयता के समय हमारी सहायता करे।”

4. पर्रेश्वर पर डवश्वास रखें, सव्यं पर नहीं (1 यूहनना 3:20–21) दवश्वास और भरोसा परमेश्वर को हमारे जीवन में प्रार्तनाओं का उत्तर िेने में सषिम बनाते हैं।

5. दोर् को असवीकार करें। यह हमारा मन है जो हमारी गलदतयों और कदमयों के दलए हम पर िोष लगाता है। जब हम िोषी महसूस करते हैं, तो हम आतमदवश्वास खो िेते हैं, और दिर हम दवश्वास करते हैं दक हम परमेश्वर से कु छ भी प्राप्त नहीं कर सकते।

6. मसीह में अपनी स्व तंत्रता को स्वी कार करें। जो मसीह में हैं उन पर अब कोई दण्ड की आज्ञा नहीं है! (रोमि यों 8:1)

7. आपनरे जो कु छ डक्या है, उसकरे बाररे ्ें सोिकर सव्यं को िोट पहुँिाना बनद करें। हम अक्सर आतम-िोष के सार सवयं को िदणित करते हैं। हम कभी भी परमेश्वर के दलए पया्तप्त नहीं कर पायेंगे। इसदलए यीरु ने इसे सवयं दकया। उसने पाप, बीमारी, अदभराप और हमारी दविलता का भुगतान दकया। हमारा काय्क, हमारी लड़ाई, के वल द्वश्ास करना है।

यह सोचे और कहें

मैंने उस मानदसकता को जाने दिया जो मुझे यह बताती है दक मैं पया्तप्त मात्ा में पदवत् नहीं हूँ, या मैंने उत्तर पाने के दलए पया्तप्त प्रार्तना नहीं की है। मैं दवश्वास के द्ारा उसकी प्रदतज्ाओं को प्राप्त करता हूँ। मैं यीरु मसीह के सार सह-उत्तरादिकारी हूँ। मैं वह प्राप्त करने की आरा करता हूँ, दजसकी प्रादप्त के वह योगय है, न दक वह दजसके मैं योगय हूँ। उसके अनुग्ह का दसंहासन सिैव खुला रहता है! उसके प्रेम भरे उत्तम उपहारों की निी सिैव मेरी ओर बह रही है! मैं यीरु के नाम से उसके अनुग्ह को, आननि और खुले मन से सवीकार करता हूँ!



Categories: christianity, hindi

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: